शुक्रवार, 25 जनवरी 2013

क्या हुआ जो मातम का मंजर है !

(फोटो गूगल से साभार)
 
जमीन जो कभी
हरी भरी थी
फसलों से
अब बंजर है
किसान जो बोया करता  था
उन फसलों को
घर में उसके
मातम जैसा मंजर है
किसी दैनिक के
पांचवे पृष्ठ पर
यह खबर छपी है
और पहले पन्ने पर
प्रधानमंत्री की
उद्योगपतियों संग
एक बड़ी तस्वीर लगी है
साथ में है
ख़बरें राजनीति क्रिकेट और ग्लैमर
बिक रहा बाजार में यह
देखो कैसे धड़ा धड़ !



22 टिप्‍पणियां:

  1. किसान जो बोया करता था
    उन फसलों को
    घर में उसके
    मातम जैसा मंजर है .....
    --------------------------------
    एकदम सच कहा आपने .... बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज का यथार्थ...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदमी आदमी में फर्क जो सीख लिया गया है ..हाशिया पर चलने वाले ....एक कटु सच ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. That is the sad state of our country ... issues that need proper attention never show up !!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. यथार्थ को दर्शाती सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज की सच्चाई दिखाती बहुत सुंदर संवेदनशील अभिव्यक्ति,,,
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,
    recent post: गुलामी का असर,,,

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्छा है जो बाज़ार जैसी है ये दुनिया,
    कोई बेच दे उस गरीब को भी, तो करार आये...

    उत्तर देंहटाएं
  8. मंगलवार 05/02/2013को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं .... !!
    आपके सुझावों का स्वागत है .... !!
    धन्यवाद .... !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप शाकाहारी हैं या निरामिष बोले तो मांसाहारी इसका आज कोई मतलब नहीं है ,ज़रूरी है आप निर्भया का सम्मान करें .आप भाई साहब शाकाहारी हैं तो वैसे हो रहें जैसे हैं .असल बात है औरत का सम्मान करना .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी बातों से पूरी तरह सहमत हूँ Sir
      सादर आभार !

      हटाएं

  10. दोस्त आप बहुत सटीक हैं .यथार्थ के करीब हैं .बधाई इस खूबसूरत तंज के लिए .आप आये मन भाये .

    उत्तर देंहटाएं
  11. Wow. Very fine, fine vol meaningful presentation. Heartfelt gratitude I have seen your blog and keep his thoughts makes us aware.

    उत्तर देंहटाएं
  12. मजदूर और किसान की पीड़ा समाज की पीड़ा है..मार्मिक रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  13. bahut sunder kavita........ek aise sach ko darshati jisse hum anbigya hai..........

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...