शुक्रवार, 8 मार्च 2019

नारी, तुमसे होता जग यह पूरा

(फोटो गूगल से साभार)



मंद समीर सी चलने वाली 
नदी सी कल कल बहने वाली 
जहाँ दिल दरिया और मन समंदर
करुणा और ममता का सागर 
तुम ना हो तो जग अधूरा
नारी, तुमसे होता जग यह पूरा

तुम माँ, तुम बहिनी
तुम बेटी, तुम अर्द्धांगिनी 
हर रूप तुम्हारा अद्भुत है
प्रेम, वात्सल्य, दया, त्याग
सब तुम्हारे पर्यायवाची
सब तुम्हारे ही रूप हैं 

तुम रानी लक्ष्मीबाई 
तुम राणा की पन्ना धाय
तुम चितौड़ की पदमिनी 
तुम वीरांगनी, तुम ओजस्विनी 

तुम इंदिरा सी नेतृत्व हो 
तुम कल्पना की उड़ान
तुम राष्ट्र शक्ति हो 
तुम देश का स्वाभिमान 

धरा से गगन तक
बस तुम्हारा विस्तार है 
नारी शक्ति, नारी संबल 
तुमको शत शत नमस्कार है !!


मंगलवार, 15 जनवरी 2019

जिंदगी तेरा मेरा रिश्ता बड़ा अजीब है

(फोटो गूगल से साभार)


जिंदगी तेरा मेरा रिश्ता बड़ा अजीब है
कभी तुम मुझे देख कर हँसती  हो 
तो कभी मैं तुम्हें देख कर हँसता हूँ 

संग संग तुम्हारे चलना बड़ा अनोखा है
कभी तुम मेरे पीछे होती हो 
कभी मैं तुम्हारे पीछे होता हूँ 

तुम हो क्या, समझना मुश्किल है जरा 
हर रूप अलग सा है तुम्हारा 
हर पल तुम संग विचित्रताओं से भरा  

तुम अहसास हो कभी, तो कभी आभास हो
तुम नीम हो कभी , तो कभी मिठास हो
बेशक एक पहेली हो, पर मेरे लिए ख़ास हो 

जिंदगी, हम तुम सदा ऐसे ही लड़े झगडे
हँसे हँसाएँ आपस में और कभी रूठे मनाएँ
पर साथ अनूठा बना रहे, ऐसे ही बस चलते जाएँ



LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...