शुक्रवार, 18 जनवरी 2013

मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को !

(फोटो गूगल से साभार)

मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को

चाँद की अभिलाषा उत्कट हो रही
रात रागिनी भी प्रगट हो रही
'कविता' की वो लौ जगमगा रही
'ज्योत' प्रेम की फैला रही 
भाव कई तैयार अब, मधुर मीत समर्पण को

मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को

बांसुरी की तान गहरी हो रही
गीत, झील में कोई घुल रही
तारकों का झुण्ड बढ़ रहा
भ्रमर, पुष्प पर प्रेम गढ़ रहा
है भ्रमर तैयार अब, पुष्प के आलिंगन को

मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को

मिलते हुए गगन पर, रंग श्याम और गुलाबी
बहती हुई धरा पर, समीर संग प्रेम सुरभि
उष्ण साँसों में भर रही शीतलता
चलित हो रही मन की जड़ता
कौन रोक सकेगा अब , आसक्त पागल मन को

मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को

29 टिप्‍पणियां:

  1. मिलते हुए गगन पर, रंग श्याम और गुलाबी
    बहती हुई धरा पर, समीर संग प्रेम सुरभि
    उष्ण साँसों में भर रही शीतलता
    चलित हो रही मन की जड़ता
    ------------------------------------
    बहुत सुन्दर रचना ... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया है ।

    आदरणीय बधाई ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. कौन रोक सकेगा अब , आसक्त पागल मन को
    मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
    पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को
    ......आसक्त मन का गुबार फूट निकला ...
    बहुत खूब ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रभावशाली ,
    जारी रहें।

    शुभकामना !!!

    आर्यावर्त (समृद्ध भारत की आवाज़)
    आर्यावर्त में समाचार और आलेख प्रकाशन के लिए सीधे संपादक को editor.aaryaavart@gmail.com पर मेल करें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर शब्दों का संयोजनऔर सुंदर रचना बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. कौन रोक सकेगा अब,आसक्त पागल मन को
    मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
    पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को,,,,लाजबाब शब्दों का संयोजन,,बधाई शिव कुमार जी,,,

    recent post : बस्तर-बाला,,,

    उत्तर देंहटाएं
  8. कौन रोक सकेगा अब , आसक्त पागल मन को ..

    जब प्राकृति अपना रूप दिखाती है तो मन उन्मुक्त हो जाता है ...
    मयूरी सा नाचता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी प्रस्तुति....बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं

  10. बांसुरी की तान गहरी हो रही
    गीत, झील में कोई घुल रही
    तारकों का झुण्ड बढ़ रहा
    भ्रमर, पुष्प पर प्रेम गढ़ रहा
    है भ्रमर तैयार अब, पुष्प के आलिंगन को

    मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
    पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को
    सूक्ष्म प्रेम के आलोड़न ,सात्विक उद्वेग की सशक्त अभिव्यक्ति रचना में .बधाई .शुक्रिया आपकी सद्य टिपण्णी का .

    उत्तर देंहटाएं
  11. कौन रोक सकेगा अब , आसक्त पागल मन को
    मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
    पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को
    बहुत खूब ..


    हो सके तो इस ब्लॉग पर भी पधारे

    New Post

    Gift- Every Second of My life.

    उत्तर देंहटाएं
  12. मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
    पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को.....very good.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर लिखा है....बहुत अच्छी लगी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  14. निराला प्रकृति चित्रण मन को ताजगी दे गया............वाह !!!!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. भावों का बहुत सुंदर चित्रण !

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अच्छी कविता अच्छी प्रस्तुति*****मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
    पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को

    बांसुरी की तान गहरी हो रही
    गीत, झील में कोई घुल रही
    तारकों का झुण्ड बढ़ रहा
    भ्रमर, पुष्प पर प्रेम गढ़ रहा
    है भ्रमर तैयार अब, पुष्प के आलिंगन को

    मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
    पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को

    मिलते हुए गगन पर, रंग श्याम और गुलाबी
    बहती हुई धरा पर, समीर संग प्रेम सुरभि
    उष्ण साँसों में भर रही शीतलता
    चलित हो रही मन की जड़ता
    कौन रोक सकेगा अब , आसक्त पागल मन को

    मैं मुग्ध हुआ देखता हूँ 'शाम' को
    पत्थरों पर तराश लूँ तेरे 'नाम' को

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुछ आवारा से ख़याल आये हैं...
    उछाल दी जो तस्वीर तुम्हारी, आसमां की तरफ,
    जिद्दी थी तुम्हारी ही तरह, वक़्त बेवक्त दिख जाती है आसमां में भी....

    उत्तर देंहटाएं
  18. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us.. Happy Independence Day 2015, Latest Government Jobs. Top 10 Website

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...