बुधवार, 22 मई 2013

पर आईना कभी झूठ नहीं बोलता ....





आईना तो हर किसी को 
उतार लेता है अपने अन्दर 
मगर उतरा हर कोई आईने में 
कहाँ निकाल पाता है खुद को 
उस आईने के अन्दर से
बस कैद हुआ रह जाता है मानो
आईने के मोहपाश में   

यह आईने की खूबसूरती है   
जो बना देता है 
किसी को भी खुबसूरत 
किसी को भी ! 
आईने के सामने 
चाहे जो हो 
जैसा भी हो 
प्यारी ही लगती है 
उसे अपनी मूरत 

पर आईना कभी 
झूठ नहीं बोलता 
आईने की सच्चाई 
है कौन देखना चाहता?
 है कौन स्वीकारना चाहता
उसके नजरिये को 
जिससे है वो औरों को देखता

हम तो खुद की नजरों से
देख रहे होते हैं 
खुद को 
आईने की नजरों से नहीं

और जो देखना शुरू कर दिया 
आईने की नजरों से 
तो सच में
सच से साक्षात्कार 
होता दिख जाएगा 
सच कड़वा हो सकता है 
मगर सच को स्वीकारना 
सत्य  को पाने जैसा है 
और सत्य तो एक ही है ....






@फोटो: गूगल से साभार 











27 टिप्‍पणियां:

  1. bahut sunder panktiya ....lekin kahi kahi virodhabhad ki sthiti hai ...........

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर पंक्तिया पर कहीं कहीं कवी की बातो में विरोधाभास नज़र आता है

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति ..आभार . बस यही कल्पना
    हर पुरुष मन की .
    साथ ही जानिए संपत्ति के अधिकार का इतिहास संपत्ति का अधिकार -3महिलाओं के लिए अनोखी शुरुआत आज ही जुड़ेंWOMAN ABOUT MAN

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बृहस्पतिवार (22-05-2013) के झुलस रही धरा ( चर्चा - १२५३ ) में मयंक का कोना पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और भी पढ़ें;
    इसलिए आज 23/05/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक है http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर (यशोदा अग्रवाल जी की प्रस्तुति में)
    आप भी देख लीजिए एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. जो देखना शुरू कर दिया
    आईने की नजरों से
    तो सच में
    सच से साक्षात्कार
    होता दिख जाएगा
    सच कड़वा हो सकता है
    मगर सच को स्वीकारना
    सत्य को पाने जैसा है
    और सत्य तो एक ही है ....बहुत सही
    बेहतरीन प्रस्‍तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. मगर सच को स्वीकारना सत्य को पाने जैसा है,,,
    बहुत सुंदर रचना,,,

    Recent post: जनता सबक सिखायेगी...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर और उम्दा प्रस्तुति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर और भावनात्मक अभिव्यक्ति |

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच है .. आइना तो सच बताता है ... पर इंसान को देखो ... उसे देखता नहीं और जो खुद को दिखाना चाहता है वो देखता है ...
    खेलना चाहता है आईने से ... उम्दा रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सत्‍य के दर्शन करवाती अच्‍छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  12. अच्छी रचना
    बहुत सुंदर

    मेरे TV स्टेशन ब्लाग पर देखें । मीडिया : सरकार के खिलाफ हल्ला बोल !
    http://tvstationlive.blogspot.in/2013/05/blog-post_22.html?showComment=1369302547005#c4231955265852032842

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत बढ़िया अभिव्यक्ति.....

    अनु

    उत्तर देंहटाएं

  14. हम तो खुद की नजरों से
    देख रहे होते हैं
    खुद को
    आईने की नजरों से नहीं----
    बहुत सुंदर
    बधाई

    आग्रह हैं पढ़े
    ओ मेरी सुबह--

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुंदर.अहसास....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. जो देखना शुरू कर दिया
    आईने की नजरों से
    तो सच में
    सच से साक्षात्कार
    होता दिख जाएगा
    सच कड़वा हो सकता है
    मगर सच को स्वीकारना
    सत्य को पाने जैसा है
    और सत्य तो एक ही है .

    बहुत सुन्दर भाव ...काश हम सच से रूबरू हों अपने को जानें पहचानें ..तो बहुत कुछ बदल जाए और तब आनंद और आये ...अब तो आईने भी न जाने कैसा कैसा दिखाने लगे ...
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत खूब रचना | अत्यंत भावपूर्ण |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  18. सच कड़वा हो सकता है
    मगर सच को स्वीकारना
    सत्य को पाने जैसा है
    और सत्य तो एक ही है ....बहुत सही
    बेहतरीन प्रस्‍तुति
    जरूरी कार्यो के ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...