सोमवार, 18 फ़रवरी 2013

इस 'शोर' को मौत क्यूँ नहीं आती !

(फोटो गूगल से साभार)
'शोर' से तंग 
शाम 'मन'
रोकना चाहता है
भाग रहे पैरों को
चाहता है महसूस करना
हवाओं में झूमती
मद मस्त तरंगों को
पर बेबसी
मन की देखी नहीं जाती
शोर की दुनिया
और
दुनिया के शोर में
बेबस फँसे
मन की छटपटाहट 
और नहीं सही जाती
आखिर क्या करें
इस शोर का
इस 'शोर' को
मौत क्यूँ नहीं आती !

मन जब कभी
डूबा होता है
असीम आकाश में
बैठा शांत
खोया होता है कहीं
अस्तित्व विहीन हुआ
सुदूर श्वेत प्रकाश में
तभी
एक शोर कहीं से आकर 
उसे पकड़ ला गिराती है
अपनी  शोर भरी दुनिया में
और मन बस फिर यही सोचता है
कि आखिर क्या करें
इस शोर का
इस 'शोर' को
मौत क्यूँ नहीं आती !

15 टिप्‍पणियां:

  1. दुनिया के शोर में
    बेबस फँसे
    मन की छटपटाहट
    और नहीं सही जाती
    आखिर क्या करें
    इस शोर का
    इस 'शोर' को
    मौत क्यूँ नहीं आती !
    -------------------------------
    निसंदेह एक जबरदस्त और बेहतरीन रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. I love the beauty of your Hindi poems ... they speak a lot ... I too try Hindi poems, and will be looking for your guidance :-)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद!
      मुझे भी आपकी कवितायेँ काफी अच्छी लगती हैं ... :-)

      हटाएं
  3. उम्दा प्रस्तुति |
    बधाई भाई जी ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच कहें तो शोर तो शाश्वत है जब तक जीवन है ...
    उससे छुटकारा कहाँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. शोर न होना तो सन्नाटा होगा.....
    और भी कष्टकारी.....

    बेहतरीन रचना..
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्‍दर। सभी पीड़ित हैं आपके दर्द से।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस भागती दौड़ती दुनिया में कोई तो है जो सुकून चाहता है शोर नहीं कविता का संगीत सुनता है। सुंदर बिंबों से सजी सुंदर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर अभिव्यक्ति!
    कभी शोर भला लगता है... तो कभी सन्नाटा सुक़ून देता है...~यही जीवन है..!
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. दुनिया के शोर में
    बेबस फँसे
    मन की छटपटाहट
    और नहीं सही जाती
    आखिर क्या करें
    इस शोर का-----bahut yatharth ki baat kahiu hai badhai

    उत्तर देंहटाएं
  10. हमारे परिवेश का एक कठोर सत्य !
    अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...