सोमवार, 13 अगस्त 2012

देखो संध्या मुस्काती है !

(फोटो गूगल से साभार)


शोणित किरणों से सजा
अंबर छोड़े जा रहा
सागर में पग दिवाकर
मद्धम-मद्धम  डाल रहा
नभ यात्रा से थका हुआ
नव उर्जा को पा रहा
दृश्य देख यह मनोरम, वो चिर हर्षाती है
देखो संध्या मुस्काती है !

नीड़ को अपने लौट रहे
विहग दिखते कितना आतुर हैं
नवजातों से मिलने को
वो आकुल और व्याकुल हैं
आनंदित-उल्लासित, नभ किरणों को समेटे
उड़े आ रहे अब खग कुल हैं
नभचरों की चहचहाहट, नवसंगीत सुनाती है
देखो संध्या मुस्काती है !

गोधूली में धूल उड़ाते
गाय-मवेशी दौड़े जाते
क्रीड़ा स्थल से लौट रहे
बाल-गोपाल हँसते-मुस्काते
श्रम स्थल से वापस
हलधर अपने घर को आते 
तुलसी चौरा पर गृह-स्वामिनी , संध्या दीप जलाती है
देखो संध्या मुस्काती है !

उडुगणों का हो रहा आगमन
अंबर पर बिछ रहा पीत कण
रजत कांति लिए हुए
उल्लासित है चन्द्र नयन
शोणित-पीत रंग से सजी
शशि-रजनी का निकट मिलन
और मिलन की तैयारी को, लाल चुनर ओढ़े जाती है
देखो संध्या मुस्काती है !

26 टिप्‍पणियां:

  1. उडुगणों का हो रहा आगमन
    अंबर पर बिछ रहा पीत कण
    रजत कांति लिए हुए
    उल्लासित है चन्द्र नयन
    शोणित-पीत रंग से सजी
    शशि-रजनी का निकट मिलन
    और मिलन की तैयारी को, लाल चुनर ओढ़े जाती है
    देखो संध्या मुस्काती है !

    बहुत अच्छी पंक्तियाँ,भावपूर्ण अभिव्यक्ति,,,,बधाई ,,,,शिवनाथ जी,,,

    उत्तर देंहटाएं
  2. उडुगणों का हो रहा आगमन
    अंबर पर बिछ रहा पीत कण
    रजत कांति लिए हुए
    उल्लासित है चन्द्र नयन
    शोणित-पीत रंग से सजी
    शशि-रजनी का निकट मिलन
    और मिलन की तैयारी को, लाल चुनर ओढ़े जाती है
    देखो संध्या मुस्काती है !

    बहुत अच्छी पंक्तियाँ,भावपूर्ण अभिव्यक्ति,,,,बधाई ,,,,शिवनाथ जी,,,
    स्वतंत्रता दिवस बहुत२ बधाई,एवं शुभकामनाए,,,,,
    RECENT POST ...: पांच सौ के नोट में.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  4. संध्या की मुस्कुराहट इसी तरह बनी रहे
    सुबह उठ कर चिड़िया तुम्हारी चहचहाती रहे ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शोणित-पीत रंग से सजी
    शशि-रजनी का निकट मिलन
    और मिलन की तैयारी को, लाल चुनर ओढ़े जाती है
    देखो संध्या मुस्काती है !

    waah...beautiful...

    .

    उत्तर देंहटाएं
  6. शशि-रजनी का निकट मिलन
    और मिलन की तैयारी को, लाल चुनर ओढ़े जाती है

    kya baat hai ati sundar panktiyaan...aur kavita bhi bahut pyari likhi gai hai..shabdo ka milan bejod hai..maja aa gaya

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  8. शशि-रजनी का निकट मिलन
    और मिलन की तैयारी को, लाल चुनर ओढ़े जाती है
    देखो संध्या मुस्काती है

    बहुत खुबसूरत शब्दों में पिरोइ रचना , आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. गौधूलि की वेला और सूर्य का गमन .. पानी पे पाँव रखता तपता गोला ... लाजवाब दृश्य खींचा है आपने शाम का ...
    १५ अगस्त की शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर आकर्षित करता हुआ संध्या सौंदर्य एक चित्र सा बनाता हुआ आँखों के सम्मुख बहुत खूब शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर और सशक्त शब्द चित्र...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहतरीन प्रस्तुति ....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. संध्या के मनोरम दृश्य को उकेरता हुआ,शानदार कृति..

    मेरा ब्लॉग ,आपके इंतजार में-
    "मन के कोने से..."

    उत्तर देंहटाएं
  14. मनोहारी शब्द चयन ....
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  15. गोधूली में धूल उड़ाते
    गाय-मवेशी दौड़े जाते
    क्रीड़ा स्थल से लौट रहे
    बाल-गोपाल हँसते-मुस्काते
    श्रम स्थल से वापस
    हलधर अपने घर को आते
    तुलसी चौरा पर गृह-स्वामिनी , संध्या दीप जलाती है
    देखो संध्या मुस्काती है !
    manonam chitr
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  16. .

    आदरणीय शिवनाथ कुमार जी,
    बहुत सुंदर मनहर रचना !

    आभार और बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत बहुत सुन्दर...
    मनभावन रचना...


    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति...
    सुन्दर..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...