शुक्रवार, 8 अप्रैल 2011

नया सवेरा (आदरणीय अन्ना हजारे के समर्थन में )


आज के भ्रष्टाचारी नेताओं का मूलमंत्र :

"भ्रष्टाचार - भ्रष्टाचार
नेताओं का जन्मसिद्ध अधिकार
मूलमंत्र महामंत्र
स्वाहा - स्वाहा प्रजातंत्र

सरकारी खजाने की लूट में
लूट सको सो लूट
अंत काल पछताएगा
जब कुर्सी जाएगा छूट "

पर आज के नवभारत के "गाँधी" (आदरणीय अन्ना हजारे ) और उनके साथ कदम से कदम मिलाकर
चल रहे लाखों-करोड़ों लोगों का महामंत्र :

"भ्रष्टाचार - भ्रष्टाचार
अब सहने को नहीं हम तैयार
मूलमंत्र महामंत्र
तेरी जय हो जय हो प्रजातंत्र

जनशक्ति का जला मशाल
भ्रष्टाचार का अँधियारा भगाना है
भ्रष्टाचार मुक्त भारत हो
ऐसा नया सवेरा लाना है "

|| जय हिंद , जय भारत , जय लोकतंत्र ||

8 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया है भाई, ऐसे ही लगे रहो

    कभी हमारे ब्लॉग पर भी पधारिये

    उत्तर देंहटाएं
  2. ek old man ne hame yah yahsas dilaya,
    sorahi deswasiyo ko phir jagaya hain,
    corruption ko bhagane keliye,
    naya aandolan chalaya,
    aage badho aage badho dosto,
    phir se bapu aaya hain,
    phir se bapu aaya hain,
    desh ne tumko pukara,
    desh se corruption mitana hain,
    Anna sir ke sapno ko sakar kar ke dikhana hain,
    desh se corruption mitana hain,
    Anna sir ke sapno ko sakar kar ke dikhana hain....jai hind jay bharat....vijay kumar sahil..

    उत्तर देंहटाएं
  3. aapki kavita bahut hi achhi hai. Iske liye mein aapko sadhuwaad deta hun. Humen apni jiwan me bhi niyamon ka palan karna chahiye. "Hum sudhrenge Jag Sudhrega" ye bhaav yadi sabke hriyday me ho aur anyaay ke khilaaf aawaz uthane ka saahas to Sachhe loktantra prapt karne me jara bhi deri nahi hogi.

    उत्तर देंहटाएं
  4. @ yogendra sir : धन्यवाद !!
    @ Vijay Kumar : बहुत बढ़िया !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. @ Pappu : टिप्पणी के लिए धन्यवाद !!
    आपकी बातों से पूरी तरह सहमत हूँ |

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही अच्छी रचना है !!
    घोटालों से मुक्त समाज बनाना है !

    उत्तर देंहटाएं
  7. शिवनाथ जी, अपने ब्लॉग को "अपना ब्लॉग" पर सम्मिलित करो जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग आपका लिखा पढ़ पायें

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...